यूरोपीय संसद ने दुनिया के पहले सिंगल चार्जर नियम को मंज़ूरी दी

यूरोपीय संसद ने यूरोपीय संघ में 2024 तक इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स के लिए सिंगल चार्जिंग पोर्ट पेश करने के नए नियम को मंजूरी दे दी है।

मुख्य बिंदु

  • नए यूरोपीय संघ के कानून में कहा गया है कि सभी नए स्मार्टफोन, टैबलेट और कैमरे में एक ही स्टैण्डर्ड चार्जर होगा।
  • नए नियम ग्राहकों को हैंडहेल्ड डिवाइस खरीदते समय दो चार्जर के बीच चयन करने की अनुमति देते हैं – एक यूएसबी-सी चार्जर के साथ और एक यूएसबी-सी चार्जर के बिना।
  • इस कानून के पहले चरण के तहत, जिसे 2024 के अंत से लागू किया जाएगा, यूरोपीय संघ में बेचे जाने वाले सभी मोबाइल फोन, टैबलेट और कैमरों को यूएसबी टाइप-सी चार्जिंग पोर्ट से लैस करना होगा।
  • 2026 से लैपटॉप को शामिल करने के लिए नियमों का विस्तार किया जाएगा।
  • यह एप्पल जैसे स्मार्टफोन निर्माताओं को प्रभावित करेगा, क्योंकि ये नियम यूरोपीय संघ में उपयोगकर्ताओं के लिए आईफोन और अन्य उपकरणों के चार्जिंग पोर्ट में बदलाव को मजबूर करेंगे।
  • यूएसबी टाइप-सी पोर्ट 100 वॉट तक चार्ज कर सकते हैं, 40 जीबी प्रति सेकेंड तक डेटा ट्रांसफर कर सकते हैं और बाहरी डिस्प्ले से लिंक कर सकते हैं।
  • अगले 2 वर्षों में, नया यूरोपीय संघ कानून सभी हैंडहेल्ड मोबाइल फोन, हैंडहेल्ड वीडियोगेम कंसोल, हेडफ़ोन, हेडसेट, टैबलेट, डिजिटल कैमरा, पोर्टल स्पीकर, ई-रीडर, ईयरबड्स, माउस, कीबोर्ड और पोर्टेबल नेविगेशन सिस्टम को प्रभावित करेगा।
  • नए कानून का उद्देश्य ई-कचरे को कम करना और ग्राहकों को अधिक टिकाऊ विकल्प बनाने के लिए सशक्त बनाना है।
  • यह यूरोपीय लोगों के जीवन को भी सरल करेगा, लागत में कमी लाएगा और बाजार में चार्जर्स की संख्या को कम करेगा।
  • यह हर साल कम से कम 200 मिलियन यूरो बचा सकता है और हर साल इलेक्ट्रॉनिक कचरे को कम कर सकता है।
  • यह तकनीकी “लॉक-इन” प्रभाव को भी समाप्त कर देगा, जिसमें एक ग्राहक पूरी तरह से एक निर्माता पर निर्भर होता है।

Leave a Comment